सर्दियों में इस बीमारी से रहें सावधान!! - BiharDailyNow
   Breaking News

सर्दियों में इस बीमारी से रहें सावधान!!

सर्दियों ने दस्तक दे दी है, वैसे तो सर्दी का मौसम बेहद ही सुहाना होता है लेकिन ये मौसम अपने साथ कई बीमारियां भी लेकर आता है। जिनमें से एक है डेंगू, सर्दी के मौसम में डेंगू की वृद्धि के लिए ज्यादा अनुकूल माना जाता है। तो ऐसे में हम आज बात करेंगे सर्दियों में डेंगू से खुद को कैसे सुरक्षित रखा जा सकता है और डेंगू होने पर कैसा रखें डाइट।

3 से 14 दिन में दिखते हैं डेंगू के लक्षण

डेंगू एक वायरल बीमारी है और एडीज एजेप्टाइ नामक मच्छर के काटने से फैलती है। डेंगू वायरस का ट्रांसमिशन मादा मच्छरों के काटने से इंसानों में फैलता है। सर्दी का मौसम डेंगू के लिए ज्यादा अनुकूल माना जाता है। डेंगू से होनेवाले बुखार को ‘हड्डी तोड़’ बुखार भी कहा जाता है। एडीज मच्छर के काटने पर तुरंत डेंगू के लक्षण दिखाई नहीं देंते हैं, स्पष्ट लक्षणों के दिखने में कम से कम तीन से चौदह दिन लग सकते हैं।

डेंगू के क्या है लक्षण

आम तौर से डेंगू से पीड़ित शख्स में फ्लू के लक्षण उजागर होते हैं। बुखार, आंखों में दर्द, जोड़ों में दर्द, बहुत अधिक सिर दर्द और शरीर पर दाने प्रमुख लक्षणों में शामिल है। डेंगू में बुखार की वजह से स्थिति अधिक खराब हो सकती है। स्थिति के बहुत अधिक खराब होने से पेट के निचले हिस्से में दर्द, उल्टी और डायरिया का भी सामना करना पड़ सकता है।

कैसे बचे डेंगू से

एडीज मच्छरों को पैदा होने से रोकने के लिए आसपास पानी जमा न होने दें। इससे संक्रमित होने से बचाव का सबसे आसान तरीका यही है कि आप अपने आसपास के वातावरण को साफ रखें और गंदे पानी को एकत्रित होने से रोकें। खाने में विटामिन सी युक्त पदार्थों का सेवन करें। विटामिन सी का इस्तेमाल वायरस से लड़ने में मदद करता है। एडीज मच्छरों के काटने से खुद को बचाने के लिए पूरे शरीर को ढ़कने वाले कपड़े पहने।

कैसा रखें डाइट

डेंगू से पीड़ित मरीजों को आयली फूड से दूर रहना चाहिए, आयली फूड में बहुत फैट होता है जो कि हाई ब्लड प्रेशर और हाई कोलेस्ट्रॉल का कारण बनता है। जिससे रिकवरी प्रोसेस धीमा होता है। इस दौरान ज्यादा हाइड्रेट और आराम देने वाली ड्रिंक की सलाह दी जाती है। कैफीन युक्त ड्रिंक को नहीं पीना चाहिए।

डेंगू होने पर इन चीजों को शामिल करें डाइट में

कीवी

कीवी डेंगू से निजात दिलाने और प्लेटलेट्स काउंट को बहुत जल्दी बढ़ाने में मदद करता है। साथ ही यह फल आपकी खूबसूरती को भी बनाए रखता है। इसमें कई फलों के बराबर विटामिंस और मिनरल्स होते हैं। इसमें मौजूद विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट्स, फाइबर, पोटैशियम और अन्य तत्व डायबिटीज से लेकर डेंगू तक में आपको राहत देता है।

संतरा

संतरा एक ऐसा फल है जो कि जरूरी विटामिन और मिनरल्स से भरपूर होता है। इसमें ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो कि मरीज को तेजी से ठीक करने में मदद करते हैं। संतरा फाइबर से भरपूर होने के साथ-साथ विटामिन सी वाला फल होता है। डेंगू में रोकथाम और शरीर को तेजी से ठीक करने में ये दोनों ही तत्व बहुत ही महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट है।

नारियल पानी

डेंगू होने के बाद बॉडी में पानी की कमी होने लगती है इस दौरान जितना, ज्यादा पानी पिएंगे, उतनी ही जल्दी बॉडी इससे रिकवर होगी। वैसे तो पानी ही सबसे जरूरी है, लेकिन नारियल पानी में अधिक पोषक तत्व, इलेक्ट्रोलाइट्स होते हैं। जो कि शरीर में लिक्विड पदार्थों को रेगुलेटिंग करते समय टॉक्सिक को बाहर निकालने में मदद करते हैं।

अनार

ये फल आयरन का बड़ा सोर्स है जो कि ब्लड प्लेटलेट्स काउंट को बनाए रखने में मदद करता है। डेंगू वायरस के कारण ब्लड प्लेटलेट्स गिरते हैं। अगर इन्हें मेंटेन किया जाता है तो बॉडी में तेजी से सुधार होता है। इस बीमारी के दौरान बॉडी में थकावट होती है। अनार इसी के साथ थकान और थकावट को कम करने में भी मदद करता है।

पालक

पालक विटामिन, आयरन और ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर सब्जी है। पालक में मौजूद ये पोषक तत्व इम्यून सिस्टम को बेहतर करने में मदद करते हैं। शरीर का बेहतर इम्यून सिस्टम इंफेक्शन से तेजी से ठीक होने में मदद करता है

हल्दी

वैसे तो किसी से भी हल्दी के स्वास्थ्य लाभ छिपे नहीं हैं। एंटीसेप्टिक और मेटाबॉलिज्म बूस्टर होने के कारण कई डॉक्टर दूध के साथ हल्दी के सेवन की सलाह देते हैं। बीमारी के दौरान तेजी से रिकवरी में ये मदद करती है।

मेथी

मेथी हल्के ट्रैंक्विलाइजर के तौर पर काम करती है जो कि दर्द को कम करने में मददगार होता है। इसी के साथ मेथी अधिक बुखार को कम करने के लिए भी असरदार साबित होती है जो कि डेंगू के दौरान एक प्रमुख लक्षण माना जाता है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply