कोरोना में कारगर आयुर्वेद की दवा - BiharDailyNow
   Breaking News

कोरोना में कारगर आयुर्वेद की दवा

आयुर्वेद की चार दवाओं के इस्तेमाल से कोरोना के हल्के एवं मध्यम लक्षणों वाले रोगियों का उपचार संभव है। आयुष मंत्रालय के दिल्ली स्थित हॉस्पिटल अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्था के जर्नल आयु केयर में प्रकाशित एक स्टडी में यह दावा किया गया है। ये दवाएं है आयुष क्वाथ, संशमनी,वटी, फीफाट्रोल और लक्ष्मीविलास रस। आयु केयर जर्नल के ताजा अंक में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार यह केस स्टडी एक 30 वर्षीय स्वास्थ्यकर्मी की है, जो संक्रमित था और मध्यम लक्षणों वाला रोगी था। दो दिनों में संक्रमण के बाद उसे भारतीय आयुर्वेद संस्थान में भर्ती किया गया। AIIA के रोग निदान एवं विकृति विज्ञान विभाग के डॉ शिशिर कुमार मंडल के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम ने तीसरे दिन से रोगी का उपचार शुरू किया। छह दिनों तक चले उपचार के बाद रोगी का कोरोना टेस्ट नेगेटिव आया।

फीफाट्रोल पांच जड़ों से है निर्मित

फीफाट्रोल पांच प्रमुख जड़ी-बूटियों सुदर्शन घन वटी, संजीवनी वटी, गोदन्ती भस्म, त्रिभुवन कृति रस तथा मृतुंजय रस से निर्मित है। जबकि आठ अन्य बूटिया तुलसी, कुटकी, चिरायता,गुडुची, दारुहरिदा, अपामार्ग,करंज था मोठा के अंश भी शामिल है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply