आज के दिन ही पारित हुआ था इंडियन पीनल कोड - BiharDailyNow
   Breaking News

आज के दिन ही पारित हुआ था इंडियन पीनल कोड

पटना। भारत में जब भी किसी अपराध को लेकर सजा दी जाती है, तो उसमें इंडियन पीनल कोड (आईपीसी) की धाराएं लगती हैं। इन धाराओं के आधार पर तय किया जाता है कि अपराधियों का जुर्म किस प्रकार का है और उसे कैसी सजा मिलेगी। हत्या से लेकर रेप तक और चोरी से लेकर मानहानि तक हर अपराध की सजा क्या होगी, इसमें ही तय किया गया है। आज देश में आईपीसी को लागू हुए 160 साल का समय पूरा हो गया है। भारतीय दंड विधान यानी इंडियन पीनल कोड 1860 में 6 अक्टूबर को पारित हुआ था। उसे एक जनवरी 1861 से लागू किया गया था।

1834 में पहला विधि आयोग बनाया गया
IPC में कुल मिलाकर 511 धाराएं और 23 chapters हैं यानी 23 अध्याओं में बटा हुआ है। क्या आप जानते हैं कि 1834 में पहला विधि आयोग बनाया गया था. इसके चेयरपर्सन लॉर्ड मैकॉले थे. इन्हीं की अध्यक्षता में IPC का ड्राफ्ट तैयार किया गया था. 6 अक्टूबर 1860 में यह कानून संसद में पास हुआ और 1862 में यह पूरी तरह से लागू किया गया था। विश्व में IPC से बड़ा कोई भी दांडिक कानून नहीं है इसलिए इसको मुख्य क्रिमिनल कोड भी कहते हैं।

Spread the love
  • 14
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply